Justbundelkhand
साहित्य

महिमा त्रिपाठी की कविता – अहसास

मिले थे जब हम
पक्षी चहचहा रहे थे
हवा मतवाली बह रही थी
मौसम गुनगुना रहा था
मुझे नहीं है तनिक एहसास
मुझे है एहसास

नयनों में था तुम्हारे काजल
और काजल में थे हम
भवरे की गुंजन
कोयल की कूक
कर रही थी
फ़िज़ा को तरंगित
मुझे नहीं है तनिक एहसास
मुझे हैं एहसास

लवो पर सजी थी जो लाली
गालों पर भी थी लालिमा
उसमें थे हम
बादल रहे थे गरज
बारिश भी कर रही थी कुछ अर्ज
मुझे नहीं है तनिक एहसास
मुझे हैं एहसास

बिखरी थी ललाट पर जो काली घटाएं
उसकी छांव में थे हम
मुझे है पूरा विश्वास
नयनों के काजल में
लवों की लाली में
गालों की लालिमा में
हम ही हम थे
हम ही हम हैं
तुम्हारे जीवन के हर रंग में
तुम्हारे मन के चंचल चितवन में
हम ही हम हैं
हम ही हम हैं

( महिमा त्रिपाठी पेशे से शिक्षिका हैं और विभिन्न विषयों पर कविताएं लिखती हैं. )

Related posts

प्रेम कुमार गौतम की कविताओं में है विद्रोह की आग, काव्य संग्रह ‘उन दिनों के लिए’ पर डॉ राम शंकर भारती की टिप्पणी

Just Bundelkhand

बुंदेलखंड विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय पुस्तक मेला 2024 की शुरुआत

Just Bundelkhand

पत्रकार धीरेन्द्र सिंह के यात्रा कहानी संग्रह ‘अल्बलुआ’ का हुआ विमोचन

Just Bundelkhand

2 comments

Sindhur June 15, 2021 at 10:45 am

Left me for thinking!
Deep exploration of emotions.

Reply
Shivpriya June 15, 2021 at 10:47 am

Very good Mahima!
Keep it up!

Reply

Leave a Comment